गुणवत्ता नहीं, हमें अपनी तिजोरी भरने से मतलब ! शासन की योजनाओं पर पलीता लगा रहे इंजीनियर और ठेकेदार, स्कूल की छत ढलाई में पुरानी छड़ का हो रहा इस्तेमाल

संदीप सिंह ठाकुर, लोरमी. सरकार लोगों के कल्याण के लिए कई योजनाएं लाती है. लेकिन अधिकारियों और कुछ लोगों की लापरवाही और ढुलमुल रवैये की वजह से वह योजनाएं दम तोड़ देती हैं. ऐसा ही एक मामला मुंगेली जिले के लोरमी तहसील अंतर्गत करनकापा गांव से सामने आया है. जहां राज्य सरकार की मुख्यमंत्री जतान योजना भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ गई है.

दरअसल, लोरमी जनपद पंचायत अंतर्गत करनकापा गांव में जारी प्राथमिक स्कूल के छत मरम्मत कार्य का एक वीडियो सोशल मीडिया में जमकर वायरल हो रहा है. जिसमें पुराने छड़ का उपयोग कर ठेकेदार द्वारा छत ढलाई का कार्य किया जा रहा है. ऐसे में अंदाजा लगाया जा सकता है कि किस तरह भोले-भाले बच्चों की जिंदगी के साथ खिलवाड़ करने का काम विभागीय इंजीनियर सहित ठेकेदार खुलेआम कर रहे हैं. जिस शासकीय भवन के छत का मरम्मत कराया जा रहा है, उसी छत के नीचे कुछ साल पहले बच्चे बैठकर अपना भविष्य गढ़ रहे थे. जिसके मरम्मत का इंतजार ग्रामीणों को था.

आंदोलन की चेतावनी

इस मरम्मत कार्य में विभागीय अधिकारियों के संरक्षण में ठेकेदार के द्वारा जमकर मनमानी करते हुए घटिया मटेरियल का उपयोग कर छत की ढलाई की जा रही है. जिससे ग्रामीणों में रोष है. वहीं समय रहते यदि घटिया मटेरियल से कराए जा रहे हैं मरम्मत कार्य पर रोक लगाते हुए कार्य में सुधार नहीं किया गया तो ग्रामीणों ने आंदोलन करने की चेतावनी दी है.

इंजीनियर और ठेकेदार में सांठगांठ

आरईएस शाखा इन दिनों भ्रष्टाचार के आकंठ में डूबा हुआ है. जहां शासन के नियमों को ताक में रखते हुए स्कूली बच्चों के हक पर डाका डाला जा रहा है. लाखों रुपये की लागत से जारी मरम्मत कार्य में जमकर भ्रष्टाचार करने का आरोप ग्रामीणों ने लगाते हुए जेसीसीजे नेता मनीष त्रिपाठी के नेतृत्व में एसडीएम को ज्ञापन सौंपा है. जिसमें शिकायत पर जांच के बाद तत्काल कार्रवाई की मांग की गई है. जारी मरम्मत कार्य को लेकर ग्रामीणों का आरोप है कि मुख्यमंत्री जतन योजना के तहत ग्राम पंचायत करनकापा में फर्श और छत का मरम्मत कार्य लगभग 5,76,000 की लागत से ठेकेदार तुषार अग्रवाल द्वारा कराया जा रहा है. इस कार्य की गुणवत्ता जांच का जिम्मा आरईएस इंजीनियर सी.पी. साहू पर है. लेकिन इंजीनियर और ठेकेदार के द्वारा मिलीभगत करते हुए छत से निकले पुराने छड़ को ही नए मरम्मत कार्य में उपयोग किया जा रहा है. साथ ही गुणवत्ताहीन मटेरियल से कार्य कराया जा रहा है. ऐसे में ग्रामीणों के द्वारा जल्द ही जांच के बाद दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए सही ढंग से मरम्मत कार्य कराने की मांग की गई है.

गुणवत्ताहीन निर्माण

नए छड़ का ही उपयोग हो रहा- सब इंजीनियर

लोरमी तहसील के करनकापा गांव में हो रहे मरम्मत कार्य को लेकर lalluram.com ने आरईएस शाखा के सब इंजीनियर सी.पी. साहू से बात की तो उन्होंने ग्रामीणों की शिकायत को लेकर कहा की ठेकेदार से गांव के एक लड़के से कल किसी बात को लेकर विवाद की स्थिति निर्मित हो गई थी. जिसके बाद ग्रामीणों ने इसकी शिकायत कर दी. कार्य में नए छड़ का ही उपयोग किया जा रहा है.

वीडियो में दिख रहा पुराने छड़ का इस्तेमाल

लेकिन वीडियो में साफ दिखाई दे रहा है कि ठेकेदार के द्वारा निर्माण कार्य में गुणवत्ता हीन जंग लगे पुराने छड़ का उपयोग छत मरम्मत के काम मे किया जा रहा है. बहरहाल देखना होगा इस पूरे मामले में जिम्मेदार अधिकारियों के द्वारा कब तक कार्रवाई की जाएगी ताकि इस घटिया कार्य में रोक लग सके.

वीडियो-

Leave a Comment