लाल आतंक की अति : माओवादियों ने बड़े भाई को सुनाया छोटे भाई को मारने का फरमान, नहीं माना तो गांव से कर दिया बेदखल, 30 एकड़ जमीन भी हड़प ली

दंतेवाड़ा. बीजापुर जिले के नक्सल नेताओं ने मरकनगुड़ा गांव के एक परिवार को बेदखल कर दिया है. अब ये परिवार अरनपुर होते हुए पालनार पहुंचा है. छोटे-छोटे बच्चों के साथ पहुंची महिलाएं, सिर छुपाने के लिए छत ढूंढ रही हैं. मओवादियो ने बड़े भाई को छोटे भाई की हत्या करने का आदेश दिया है. छोटे भाई पर नक्सलियो ने पुलिस सहयोगी होने का आरोप लगाया है.

बड़े भाई ने छोटे भाई की हत्या करने से मना कर दिया तो परिवार को गांव से बेदखल कर दिया है. अपने 30 एकड़ जमीन को छोड़ परिवार दंतेवाड़ा पहुंचा है. पीड़ितों ने कहा जमीन जायदाद की भी लूट नक्सल समर्थकों ने की है.

कलेजे के टुकड़े को काटने का फरमान

पीड़ित परिवार अपनी मातृभूमि को छोड़कर दंतेवाड़ा में पनाह लेने पहुंच चुका है. माओवादियों ने गांव में रहने का विकल्प भी ऐसा दिया है, जो बड़े भाई को नागवार है. अपनी मां के ही कलेजे के टुकड़े को काट देने का फरमान है. इसलिए बड़े भाई ने जननी को तवज्जो दी और और मातृ भूमि को त्यागना ही ठीक समझा. अब यह परिवार अपने छोटे भाई के पास रुका हुआ है. लेकिन कई एकड़ जमीन अब इनसे छूट गई है.

Leave a Comment