Bawaal Over Auschwitz All You Need To Know About The Poland Town Holocaust Link Janhvi Kapoor Varun Dhawan Film

Bawaal on Auschwitz: वरुण धवन और जाह्नवी कपूर की फिल्म ‘बवाल’ अमेजन प्राइम पर रिलीज हो चुकी है. फिल्म को क्रिटिक्स और दर्शक दोनों की ओर से मिला-जुला रेस्पॉन्स मिल रहा है. इस फिल्म को देखने से लोगों को द्वितीय विश्व युद्ध से जुड़ी ऐतिहासिक जानकारी को जानने का भी मौका मिल रहा है.

फिल्म पर मचा ‘बवाल’
बवाल फिल्म से जुड़े ऐतिहासिक तथ्यों और उसके डायलॉग्स के चलते लोगों के रिएक्शन सामने आ रहे हैं. फिल्म को फैक्ट फुल बनाने के लिए एडोल्फ हिटलर से जुड़ी जगहों पर भी फिल्म की शूटिंग की गई है. फिल्म के डायलॉग ‘हम सब भी हिटलर की तरह हैं’ और ‘हर रिश्ते को अपने ऑश्र्वित्ज से गुजरना पड़ता है’ को लेकर कई लोग क्रिटिसाइज कर रहे हैं, तो कई लोगों का बताना है कि फिल्म के जरिए उस समय की ऑश्र्वित्ज की स्थिति को सही तरीके से पेश किया गया है.

क्रिटिसिज्म पर वरुण का रिएक्शन
वहीं, फिल्म के डायलॉग्स को लेकर हो रहे क्रिटिसिज्म पर लीड एक्टर वरुण धवन ने भी अपनी चुप्पी तोड़ी है. वरुण ने कहा कि ये मेरे लिए कुछ नया नहीं है. मेरी फिल्म जुड़वा, मैं तेरा हीरो और एबीसीडी 2 को लेकर भी पहले क्रिटिसाइज किया जा चुका है, जो कि ठीक है. साथ ही बवाल फिल्म के लीड एक्टर ने कहा कि मैं इस तरह के क्रिटिसिज्म का सम्मान करता हूं.

यूरोप में हुई शूटिंग

नितेश तिवारी के निर्देशन में बनी फिल्म बवाल में कई शॉट्स यूरोप में शूट किए गए हैं. यूरोप में लिए गए शॉट्स में उन तमाम जगहों को लेने की कोशिश की गई है, जहां द्वितीय विश्व युद्ध हुआ था. इन जगहों में नॉरमैंडी का ओमाहा बीच के साथ ही बर्लिन और ऑश्र्वित्ज भी शामिल है. यह वे जगह हैं, जहां वर्ल्ड वार सेकेंड के दौरान बड़ी संख्या में नरसंहार हुआ था.

ऑश्र्वित्ज में हुआ नरसंहार

पॉलैंड में स्थित जगह ऑश्र्वित्ज में द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान 40 कंसेंट्रेशन कैंप मौजूद थे. इसके अलावा कुछ बाहरी कैंप भी वहां लगे हुए थे. ऑश्र्वित्ज कंसेंट्रेशन एंड एक्सटर्मिनेशन कैंप में बिर्केनो कैंप, कई गैसों के भराव के लिए जाना जाता था. ऑश्र्वित्ज का ये कैंप नाजी के सबसे खतरनाक कैंप में से एक माना जाता था.

शुरुआती दौर में, ऑश्र्वित्ज 1 कैंप जो कि जो कि एक आर्मी बैरक थी, उसे जल्दी ही युद्ध के कैदियों को रखने की जगह के रुप में बदल दिया गया. इस कैंप में लाखों कैदियों पर खूब अत्याचार किया जाता था.

ये भी पढ़ें: Jay Bhanushali ने किया फिल्म बार्बी का रिव्यू, बोले- ‘बवासीर है, इससे बुरी फिल्म मैंने आजतक नहीं देखी’

Leave a Comment